Event
जनजागरूकता के लिए “फेस ऑफ कॉन्फिडेंस” वॉकाथॉन का आयोजन किया
09/12/2018
नई दिल्ली : पीसीओएस (पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम) और भारत में महिलाओं के बीच इसके फैलने की बढ़ती घटनाओं पर जनजागृति लाने के उद्देश्य से बेयर जायडस फार्मा ने दिल्ली गायनाकोलॉजिस्ट फोरम और दिल्ली गायनाकोलॉजिस्ट फोरम (दक्षिण) के सहयोग से नई दिल्ली के मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में “फेस ऑफ कॉन्फिडेंस” वॉकाथॉन का आयोजन किया।

करीब 250 गायनाकोलॉजिस्ट और हेल्थ एक्सपटर्स ने हार्मोन्स से होने वाली गड़बड़ी से होने वाले रोग पीसीओएस पर विचार-विमर्श की शुरुआत करने के लिए इस इवेंट में भाग लिया। पीसीओएस हार्मोन्स में असंतुलन से होता है, जो दुनिया भर में मां बनने की उम्र वाली 5 महिलाओं में से 1 महिला को प्रभावित करता है। इस सिंड्रोम की पहचान महिलों के शरीर में पुरुष हार्मोन, एंड्रोजन की अधिकता से होती है, जिसके कारण चेहरे पर मुहांसे हो जाते हैं,अनचाहे बाल आ जाते है और वजन बढ़ जाता है। महिला की लाइफस्टाइल में बदलाव लाने के लिए सरकार की ओर से पहले से किए जा रहे प्रयासों को रफ्तार देने के लिए बेयर जाइडस फार्मा की ओर से वॉकाथॉन का आयोजन किया गया था। वॉकाथॉन में महिलाओं को पीसीओएस की जानकारी दी गई और यह भी बताया गया कि वह इसे किस तरह मैनेज कर सकती हैं।

 

गायनाकोलॉजिस्ट और दिल्ली गायनाकोलॉजिस्ट फोरम की महासचिव डॉ. शारदा जैन ने वॉकाथॉन पर अपने विचारों को प्रकट करते हुए कहा, पीसीओएस को आमतौर पर साइलेंट डिसआर्डर माना जाता है। इससे पीड़ित आधी से ज्यादा महिलाओं में इसकी पहचान नहीं होती। इससे महिलाओं में डिप्रेशन के अलावा टाइप-2 डायबिटीज होने का खतरा और गर्भावस्था के दौरान होने वाली परेशानियां बढ़ जाता है। भारत को डायबिटीज की वर्ल्ड कैपिटल होने के नाते इसका विशेष रूप से संज्ञान लेना चाहिए और इससे बचाव के तरीकों के बारे में लोगों को जागरूक करना चाहिए कि किस तरह स्वस्थ लाइफस्टाइल के किए गए बदलाव, जिसमें पौष्टिक और संतुलित भोजन और व्यायाम शामिल है, से विशेष तौर पर महिलाएं पीसीओएस से अपना बचाव कर सकती है।

 

 

बेयर जाइडस फार्मा के प्रबंध निदेशक मनोज सक्सेना ने वॉकाथॉन के बारे में कहा, हम दिल्ली गायनाकोलॉजिस्ट फोरम और दिल्ली गायनाकोलॉजिस्ट फोरम (दक्षिण) के साथ जुड़कर काफी उत्साहित हैं, जो सिंड्रोम के संबंध में जागरूकता फैलाने और इसे समर्थन देने के लिए आगे आए हैं। बेयर महिलाओं की स्वास्थ्य रक्षा के क्षेत्र में पथप्रदर्शक रहा है और इस बात को अच्छी तरह समझता है कि किस तरह पीसीओएस महिलाओं की सेहत पर प्रभाव डाल सकता है। हम चाहते हैं कि महिलाओं को उनके स्वास्थ्य संबंधी पहलुओं की बेहतर जानकारी हो और वह अपनी सेहत और बेहतर रहन-सहन के संबंध में सोच-विचार कर फैसला ले सके। पीसीओएस की जल्दी पहचान और इलाज से सेहतमंद रहने में मदद सुनिश्चित होती है और आत्मविश्वास बरकरार रहता है। फेस ऑफ कॉन्फिडेंस वॉकाथॉन का उद्देश्य इस लक्ष्य को प्राप्त करना है।

 




Total View  1043



Ad
»»


Copyright @ The Image Star