Event
हरियाली तीज के दिन झूला झूलने का विशेष महत्व है : सरोज शर्मा
हरियाली तीज के दिन झूला झूलने का विशेष महत्व है : सरोज शर्मा
03/08/2019
दिल्ली : संसार में सावन के सौंदर्य की छटा से सुंदर कुछ भी नहीं होता। गर्मी से तपती हुई धरा को मानसून की बूंदों से शीतलता प्राप्त होती है और एक बार फिर वह पूर्ण श्रृंगार करके तैयारी के साथ त्योहारों के सिलसिले की भी शुरूआत करती है। मानसून के साथ आने वाले हरियाली तीज के उत्सव के लिए वल्लरी वुमेन ग्रुप द्वारा आज विज्ञान लोक के प्राचीन गणेश मंदिर के प्रांगण में तीज उत्सव का आयोजन किया गया।जिसमें बैंड बाजो ओर डोल-नगाड़ो के साथ शिव-पार्वती का विवाह कराया।


   

   इस मौके पर वल्लरी वुमेन ग्रुप की मेम्बर महिलओं ने फूलों से सजे झूलों का आनंद लिया.साथ ही डांडिया,हरयाणवी लोक और पंजाबी गिददा का मनमोहक प्रदर्शन किया.रंगीन साडी,पहने,रंग-बिरंगी चुरिया और मेहँदी रचे हाथों के साथ लडकियों ने तीज उत्सव जोर-शोर से मनाया.इस अवसर पर अच्छे-अच्छे व्यजंनों का भी मज़ा लिया सभी ने।

 

वल्लरी ग्रुप कि सयोजक सरोज शर्मा ने बताया कि पिछले सात सालों से तीज उत्सव का आयोजन करती रही है। हरियाली तीज का त्यौहार  भगवान शिव और माता पार्वती के पुर्नमिलन के रूप में मनाया जाता है। हरियाली तीज के दिन ही भगवान शिव ने माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में स्वीकार किया था। इस दिन सुहागन स्त्रियां अपने पति के स्वास्थय और उनकी लंबी उम्र के लिए व्रत रखती हैं। हरियाली तीज के दिन झूला झूलने को विशेष महत्व दिया जाता है

  

इस अवसर पर ग्रुप की मिताली शर्मा,सीमा जैन,गुरमीत कौर,प्राची गुप्ता, प्रवीण शर्मा, अर्पणा, हेमलता, पुष्पा शर्मा, शालू अग्रवाल, इंदु, आराधिका शर्मा और सीमा श्रीवास्तव भी मौजूद थी।


Total View  890



Ad
»»


Copyright @ The Image Star